google.com, pub-7859222831411323, DIRECT, f08c47fec0942fa0 काम के समय सुस्ती को भगाए दोपहर के समय की नींद को अलविदा करे

काम के समय सुस्ती को भगाए दोपहर के समय की नींद को अलविदा करे

जब हमारे आफिस में घङी में 12 बजते है हम सभी को नींद के झोके आने लगते है और कुछ भी करने का दिल नही होता है। एक ओर जहां हमारा बिस्तर हमें स्वर्ग के समान प्रतीत होता है जबकि आफिस डेस्कटॉप एक राक्षस की तरह लगता है जो हमारी आँखों में लगातार घूर के देख रहा होता है। लेकिन, दुर्भाग्य से हम अपने कार्यालय में अलग से सोने के समय नहीं मिलता है। इस प्रकार, हम विभिन्न अभिनव तरीके में जो आपके आलस में सरल लेकिन प्रभावी तरीको से बाधा(दूर) डाल सकते है चर्चा कर सकते है। यहाँ 3 तरीके सुझाए जा रहे है जो आपकी सुस्ती को दूर करने में आपकी मदद करेंगे। 
  चबाने के द्वारा अपने आलस को भगाए 
सुस्ती आने पर झपकी मत मारो, तुम्हे इसके बारे में कुछ करना होगा! कुछ चबाने के द्वारा शुरू करते है। सुनिश्चित करें कि आप अपने साथ एक चिप पैक या बल्कि एक सेब ले अपने बचाव के लिए या अपने आलस को दूर करने के लिए ला सकते हैं। इससे आपके आफिस के समय के दौरान अनावश्यक आलस को दूर करने मे मदद मिलेगी। 
  कुछ अनोखा करने से अपनी नींद को भगा कर क्षमताओ को बढाए 
हेलसिंकी, फिनलैंड, विश्वविद्यालय के अनुसंधानकर्ताओं द्वारा किए गए एक अध्ययन और फरवरी 2008 में पत्रिका मस्तिष्क में प्रकाशित: रिपोर्ट के अनुसार "संगीत सुनने की क्रिया से एक व्यापक दिमाग क्षेत्र से संबंधित द्विपक्षीय नेटवर्क ध्यान करने के लिए, अर्थ प्रसंस्करण, स्मृति, संचालक कार्य और भावनात्मक प्रसंस्करण करता है। संगीत सुनने से स्वस्थ लोगो और कई तरह के मरीजो की भावनात्मक और संज्ञानात्मक प्रक्रियाओ के प्रदर्शन को बढ़ावा मिलता है" 
  थोङा इधर उधऱ टहले 
 चलने के द्वारा या कुछ प्रकार के आँख के व्यायाम को करने के द्वारा आप शिथिलता और आलस्य को दूर कर सकते हो उसको तुम दृढ़ता से सामना कर हरा सकते हो या दूर कर सकते हो। अच्छा यह होगा कि आप कही घूम आएं या आफिस के बाहर चाय की दुकान तक हो आएं। इससे जब आप वापस लोटेंगे तो आप अधिक तरोताजा महसूस करोगे और बाकी दिन का सामना करने के लिए खुद में अतिरिक्त उत्साह पाएंगे।
  भोजन के बाद आलस को भगाना हम सब ने यह एक सोचा दी है, है ना? हम सब हमारे कार्यालय में दोपहर के भोजन के तुरंत बाद कम से कम 10 मिनट के लिए सोने का मज़ा लेते है। ऐसा माना जाता है कि सारा दिन बैठे रहने से हमे अपॉनेआ की स्थिति हो सकती है जोकि आम तौर दिन में सोने की वजह से होती है। इसका कारण यह है जब आप अधिक समय तक एक ही जगह पर बैठे रहते है तो आपके पैरो और घुटनों में रक्त रुक जाता है। और बाद में, जब हम सोने के लिए लेटते है, अपनी गर्दन के प्रवाह के लिए गुरुत्वाकर्षण तरल पदार्थ जमा हो जाता है, जिससे आपके उपरी हिस्से में तनाव पैदा होता है, यह पतन या बिमार होने का कारण बन सकता है। परिणामस्वरुप इससे दम घुटने पर या छोटी छोटी सांस लेने पर आप सोने से वंचित हो सकते है। इसलिए इससे बचने के लिए एक प्रत्येक घंटे में थोङा घूम-फिर आएं। 
  सोने से बढ़ती है कार्य क्षमता दोपहर में कुछ मिनटो की झपकी लेने से लम्बे समय तक समृति बढ़ने में मदद मिलती है हाइफ़ा विश्वविद्यालय में प्रो अवि करनी और मस्तिष्क और व्यवहार अनुसंधान के लिए केंद्र डॉ मारिया कॉरमन द्वारा किए गए एक अध्ययन में पाया है। प्रोफेसर करनी ने कहा कि वाह अभी तक मस्तिष्क का सटीक मशीनीकरण और संबंधित स्मृति प्रक्रिया के बारे में अवगत नहीं है। लेकिन यह संभव हो सकता है याद करने की क्षमता को बढाया जाए और निकट भविष्य में भी योजना बनाए जा रहे है कि इसे कृत्रिम तरीके से किया जा सके। 
  शब्दो का या मंत्रो के उच्चारण करे 
 हाल ही के एक अध्ययन से निष्कर्ष निकाला गया है कि एक प्रमुख शब्द या दो आपके तनाव के स्तर को कम कर सकते है। मन में धारण करने के लिए क्या करने की जरुरत है अर्थात पहले शांतिपूर्ण क्षणों के दौरान मंत्रो का अभ्यास करे, इसके आगे अपने दिमाग से सम्पर्क और विश्राम के साथ इसे परस्पर संबंधित करने का प्रशिक्षण ले। इस विशेष मंत्र का उपयोग संक्षिप्त आसार(अनोखी वस्तु या बचा हुआ टुकङा) या दीर्घ समय के लिए किया जा सकता है। यह आगे आपको अपने काम में शानदार दक्षता में मदद कर सकते हैं। और अंत में, बस सुनिश्चित करें कि आपके कुर्सियों बिल्कुल भी आरामदेह न हो कि आप उन पर बैठ कर एक मिनट के लिए अच्छी नींद ले सके। बस अपने आप को शारीरिक रूप से सक्रिय रखे ताकि आप पूरी तरह से काम के समय झपकी को अलविदा कह सके और वो भी इतने असरदार ढंग से या प्रभावी तरीके से !

Post a Comment

1 Comments