हरितालिका तीज -Hartalika Teej


गणेश चतुर्थी के ठीक एक दिन पहले पति की दीर्घायु की कामना के लिए सुहागिन महिलाएं हरतालिका तीज पर निर्जला व्रत रखती हैं। इस दिन महिलाएं, युवतियां गौरी-शंकर का पूजन करती हैं। हिन्दी तिथि के हिसाब से ये व्रत भाद्रपद माह के शुक्ल पक्ष की तृतीया को रखा जाता है जो रविवार यानी 4 सितंबर को मनाया जाएगा। 

 व्रत और पूजा का मुहूर्त : पंडितों की मानें तो इस बार हरितालिका तीज का पर्व काफी सुखद संयोग लेकर आया है। इस बार तृतीया तिथि 4 सितंबर को सुबह 5.00 बजे से शुरू होगी। इसलिए व्रत रखने वाली महिलाएं और युवतियां इससे पहले ही सरगी कर सकती हैं। इसके अलावा पूजा करने का सही मुहूर्त शाम 6 बजकर 04 मिनट से रात 8 बजकर 34 मिनट तक है। इस दौरान की गई पूजा लाभदायी मानी जाएगी। 

 व्रत की महत्ता : इस बार हरितालिका तीज पर तृतीया संग चतुर्थी और हस्त नक्षत्र का भी संयोग बन रहा है और ऐसा संयोग व्रती के हर मनोकामना को पूर्ण करने वाला माना जा रहा है। इस पूजा को करना जितना कठिन है, उतना ही कठिन है इसका व्रत रखना। क्योंकि इस व्रत को भी बगैर पानी के रखा जाता है। उत्तर भारत में हरितालिका तीज धूमधाम से मनाई जाती है। मान्यता है कि इस व्रत को करने वाली सुहागिन महिलाओं का सौभाग्य अखंड बना रहता है और उसे सात जन्मों तक पति का साथ मिलता है।
पूजा की विधि : हरितालिका तीज का व्रत भी निराहार और निर्जला रहकर किया जाता है। महिलाएं व युवतियां भगवान शिव को गंगाजल, दही, दूध, शहद आदि से स्नान कराकर उन्हें फल समर्पित करती हैं। रात्रि के समय घरों में सुंदर वस्त्रों, फूल पत्रों से सजाकर फुलहार बनाकर शिव और पार्वती की पूजा की जाती है। गांव-शहर के प्रमुख बाजारों में गौरा पार्वती मिलते हैं। तीज पर पार्वती जी के इसी स्वरूप की पूजा की जाती है। सुबह 4.00 बजे उठकर बिना बोले नहाना होता है और फिर दिन भर निर्जला व्रत रखना पड़ता है। 

 पूजन सामग्री : हरतालिका तीज पर पूजन के लिए - गीली काली मिट्टी या बालू रेत, बेलपत्र, शमी पत्र, केले का पत्ता, धतूरे का फल एवं फूल, अकांव का फूल, तुलसी, मंजरी, जनैव, नाडा, वस्त्र, सभी प्रकार के फल एवं फूल, फुलहरा (प्राकृतिक फूलों से सजा), मां पार्वती के लिए सुहाग सामग्री - मेहंदी, चूड़ी, बिछिया, काजल, बिंदी, कुमकुम, सिंदूर, कंघी, माहौर, बाजार में उपलब्ध सुहाग पुड़ा आदि, श्रीफल, कलश, अबीर, चन्दन, घी-तेल, कपूर, कुमकुम, दीपक, घी, दही, शक्कर, दूध, शहद पंचामृत के लिए आदि।

Post a Comment

2 Comments

  1. करवा चौथ, करवा (पानी के एक छोटे से मिट्टी के बर्तन) के लिए प्रयुक्त शब्द है और चौथ का अर्थ है ‘चौथा दिन’ हिन्दी महीने का. एक संदर्भ यह है कि त्योहार कार्तिक के महीने की, अंधेरे पखवाड़े या कृष्ण पक्ष के चौथे दिन पड़ता है)।

    ReplyDelete