भारतीय महिलाएं जानती हैं, डर के आगे जीत है...

एक सर्वेक्षण के अनुसार देश में ऐसी महिलाओं की संख्या लगातार बढी है, जो अधिक जिम्मेदारी वाली नौकरियां करती हैं और जिनमें लंबे समय तक काम करना या बार-बार यात्रा करना शामिल है. नियुक्ति परामर्श फर्म करियरबिल्डर डॉट काम ने एक सर्वेक्षण में यह निष्कर्ष निकाला है. इसके अनुसार भारत में अब दो-तिहाई महिलाएं अपनी नौकरी के तहत यात्रा करने में नहीं हिचकिचाती हैं. इसके अलावा 33 प्रतिशत महिलाएं अधिक जिम्मेदारी, अधिक लाभ वाले कामकाजी माहौल को वरीयता देती हैं. इस अध्ययन के अनुसार 82 प्रतिशत महिला कर्मचारी इस बात से सहमत हैं कि उनका परिवार करियर महत्वाकांक्षा में उनका समर्थक है. इसमें 60 प्रतिशत का मानना है कि शादी उनके करियर या नौकरीपेशा जीवन में आगे बढने में बाधक नहीं होगी. 

 विशेषज्ञों का भी मानना है कि परिवार के समर्थन तथा बेहतर विकल्पों के चलते महिलाएं अधिक दबाव या जिम्मेदारी वाले पद लेने में आगे आ रही हैं. आईटी उद्योग में आमतौर पर लंबे समय तक काम करना पड़ता है. इसका उदाहरण देते हुए क्लाउड सेवा प्रदाता नालेरिटी के सीईओ अंबरीश गुप्ता ने कहा, 'महिलाएं यह जिम्मेदारी लेने में हिचक नहीं रही हैं.' एचआर फर्म यूनिसन इंटरनेशनल कंसल्टिंग के प्रबंध निदेशक उदित मित्तल ने कहा कि अर्थव्यस्था के आधुनिकीकरण तथा वैश्वीकरण के चलते नये उद्योग बने हैं जहां महिला कमर्चारियों के लिए नये अवसर पैदा हुए हैं. परिवार भी अपनी महिला सदस्यों को बाहर जाकर का0म करने की अनुमति देने लगे हैं. एक्जीक्यूटिव एक्सेस के प्रबंध निदेशक रोनेश पुरी ने कहा कि अनेक संगठन अपने यहां लैंगिक विविधता को सही करने की कोशिश कर रहे हैं इसिलए वे महिलाओं के लिए अपेक्षाकृत अधिक से अधिक अवसर पैदा कर रहे हैं.

Post a Comment

0 Comments